धर्म और विज्ञान में अंतर क्या है? जानें धर्म और विज्ञान में अंतर

Dharm Aur Vigyan Mein Antar
Dharm Aur Vigyan Mein Antar

धर्म किसी वस्तु का वह गुण है जिसे उससे अलग नहीं किया जा सकता, उदाहरणार्थ- चीनी का धर्म मिठास । विज्ञान भगवान की शक्ति का अनुभवगम्य ज्ञान है। इन दोनों में कोई विरोध नहीं है।

धर्म और विज्ञान में अंतर

विज्ञान बनाम धर्म विज्ञान और धर्म के बीच का अंतर उनके सिद्धांतों और अवधारणाओं में मौजूद है। दूसरे शब्दों में, विज्ञान और धर्म दो क्षेत्र हैं जो अक्सर अपने सिद्धांतों और अवधारणाओं के बारे में एक दूसरे से भिन्न होते हैं धर्म में लागू सिद्धांत अक्सर विज्ञान पर लागू नहीं होते हैं इसका उलटा भी सच है। विज्ञान और धर्म के बीच संबंध एक बहुत ही विवादास्पद है धर्म विश्वास पर आधारित है, जबकि तर्क तर्क पर आधारित है। यही कारण है कि ये दोनों अक्सर संगत नहीं होते हैं।

धर्म

ईश्वर का अस्तित्व धर्म में मुख्य अवधारणाओं में से एक है। ब्रह्मांड के निर्माण या निर्माण को धर्म के अनुसार भगवान का कार्य माना जाता है। बाइबल के अनुसार, ईश्वर ने दुनिया को छः दिनों में बनाया। उन्होंने सृष्टि के लिए छह दिन और सातवें दिन का प्रयोग किया, जो रविवार है, को अवकाश माना जाता है ईसाई, जो सब्बाथ का पालन करते हैं, रविवार को काम नहीं करते हालांकि, अब तक, इन परंपराओं का पालन बिल्कुल ठीक नहीं है। फिर भी, अनुयायी हैं, जो अब भी इन नियमों के बारे में सख्त हैं। धर्म ने विभिन्न संस्कृतियों और रीति-रिवाजों के लिए मार्ग प्रशस्त किया है दुनिया भर के विभिन्न देशों में उस मामले के लिए अलग-अलग धर्म हो सकते हैं।

विज्ञान

विज्ञान का काम करने का अपना तरीका है और इसका धार्मिक विश्वासों के साथ कुछ भी नहीं है यह हमेशा तर्क पर आधारित होता है कुछ के लिए सच के रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए वहाँ सबूत होना चाहिए। चूंकि भगवान के अस्तित्व का कोई सबूत नहीं है, इसलिए विज्ञान ईश्वर को स्वीकार नहीं करता है। इसलिए, भगवान ने विज्ञान के अनुसार दुनिया नहीं बनाई। विज्ञान के अनुसार, ब्रह्मांड बिग बैंग के परिणामस्वरूप बनाया गया था। इस सिद्धांत को बताते हुए सिद्धांत बिग बैंग थ्योरी के रूप में जाना जाता है। इसके अनुसार, ब्रह्माण्ड 13 के बारे में तेजी से विस्तार करने लगे। 7 अरब साल पहले और उस समय से विकसित हुआ है।

विज्ञान और धर्म में संबंध

विज्ञान पूरे तरीके से धार्मिक है क्योंकि धर्म है सत्य को जानना। और विज्ञान भी सत्य को ही जानना चाहता है। लेकिन विज्ञान एक छोटी सी चूक कर देता है।

उदाहरण

एक पेंडुलम घूम रहा है। उसके चक्कर चल रहे हैं। वैज्ञानिक की सत्य है कि “पेंडुलम घूम रहा है।” और वह उस सत्य को पेंडुलम में ढूँढेगा। नतीजा? वह पेंडुलम की आवृत्ति निकाल लेगा, समय अवधि निकाल लेगा। वह जान जाएगा कि लंबाई पर ही सब निर्भर है और वह वही सारी जानकारियां पेंडुलम के बारे में इकट्ठी कर लेगा। और वह कहेगा कि मुझे सत्य पता चल गया। अब तुम उस पेंडुलम की जगह एक पंखा भी रख सकते हो, आकाशगंगा रख सकते हो और दुनिया भर की जितनी भौतिक घटनाएँ हैं उन सबको रख सकते हो। और वैज्ञानिक कहेगा कि ‘सत्य वहां है’। और वह उसको ‘वहां’ पर तलाशेगा और सारे नियम खोज डालेगा।

लेकिन पूरी घटना सिर्फ यह नहीं है कि पेंडुलम हिल रहा है। पूरी घटना यह है कि ‘पेंडुलम हिल रहा है और तुम देख रहे हो कि पेंडुलम हिल रहा है’। अगर तुम ना कहो कि हिल रहा है तो कुछ प्रमाण नहीं है उसके हिलने का। पेंडुलम के हिलने का प्रमाण एक मात्र तुम्हारी चेतना से आ रहा है। पेंडुलम के सामने एक पत्थर को बैठा दो तो क्या पत्थर कह सकता है कि पेंडुलम हिल रहा है?

पेंडुलम हिल रहा है, यह कहने के लिए एक चैतन्य मन चाहिए जो कह सके कि पेंडुलम हिल रहा है। वैज्ञानिक पूरी घटना नहीं देखता। वह आधी घटना देखता है। आधी घटना में क्या देख रहा है?

धर्म पूरी घटना देखता है– धर्म कहता है कि एक नहीं, दो घटनाएँ हो रही हैं। पेंडुलम हिल रहा है और चेतना देख रही है। धर्म कहता है समग्रता में देखो। तो धर्म सिर्फ बाहर ही नहीं देखता, भीतर भी देखता है।

विज्ञान सिर्फ बाहर देखता है– विज्ञान देखेगा तो पेंडुलम को देखेगा। धर्म देखेगा तो कहेगा “पेंडुलम है और मन है।” मन को भी समझना आवश्यक है। तो विज्ञान धार्मिक है, पर आधा धार्मिक है। पूरा धर्म हुआ, उसको जानना और मन को जानना।

संबन्धित लेख

NOT SATISFIED ? - ASK A QUESTION NOW

* Question must be related to education, otherwise your questions deleted immediately !

Related Post