आर्थिक शब्दावली – Economic Dictionary of India in Hindi

Arthik Shabdawali
Arthik Shabdawali

Arthik Shabdawali

काला धन

जिस धन का कोई हिसाब नहीं होता, जिस पर आयकर व सम्पत्ति कर नहीं दिया जाता, उसे काला धन कहते हैं। सामान्य भाषा में जिस धन से शासन अपरिचित है, उसे काला धन कहते हैं।

बैंक रेट

किसी देश का केन्द्रीय बैंक अपने सदस्य व्यापारिक बैंकों के बिलों की पुनर्कटौती करता है उसे बैंक रेट कहते हैं।

बजट

किसी संस्था या सरकार के एक वर्ष की अनुमानित आय-व्यय का लेखा-जोखा बजट कहलाता है।

मुद्रा-स्फीति

वस्तुओं के उत्पादन की अपेक्षा बाजार में मुद्रा का अधिक आना जिससे मुद्रा का मूल्य गिर जाता है तथा वस्तुओं के मूल्यों में वृद्धि होती है मुद्रा-स्फीति कहलाती है।

मुद्रा संकुचन

बाजार में मुद्रा की मात्रा में कमी जिससे कीमतें गिरती हैं। मुद्रा संकुचन कहलाता है। उत्पादन व व्यापार गिर जाता है और बेरोजगारी बढ़ती है।

मिश्रित अर्थव्यवस्था

जिस अर्थव्यवस्था में निजी एवं सार्वजनिक उपक्रमों का साथ-साथ होना, ताकि उत्पादन व रोजगार बढ़े, उसे मिश्रित अर्थव्यवस्था कहते हैं।

विनिमय दर

जिस दर पर एक देश की मुद्रा दूसरे देश की मुद्रा में बदल जाती है, उसे विनिमय दर कहते हैं।

प्रत्यक्ष कर

जो कर उपभोक्ताओं या नागरिकों पर सीधे लगते हैं प्रत्यक्ष कर कहलाते हैं; जैसे-आयकर।

परोक्ष कर

जो कर उपभोक्ताओं या नागरिकों पर सीधे नहीं लगाये जाते हैं, उन्हें परोक्ष कर कहते हैं; जैसे-बिक्रीकर।

वित्त विधेयक

बजट प्रस्तावों को वित्त विधेयक के रूप में संसद में प्रस्तुत करने को वित्त विधेयक कहते हैं।

प्रगतिशील कर

एसे कर जिनका भार धनी वर्ग पर अधिक व निर्धन वर्ग पर कम पड़ता है। उन्हें प्रगतिशील कर कहते हैं।

सूचकांक

किसी मद या वस्त के मल्यों में एक आधार वर्षे या अन्य की तुलना में हुए प्रतिशत परिवर्तन को दर्शाने वाला अंक सूचकांक कहलाता है। उदाहरणार्थ शेयर सूचकांक, थोक मूल्य सूचकांक आदि।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI)

भौतिक सम्पदा; जैसे-कारखाने, भूमि, पूँजीगत वस्तुए तथा आधारित संरचना वाले क्षेत्रों में जब विदेशी निवेशक अपना धन लगाते हैं, तो इसे प्रत्यक्ष विदेशी निवेश कहते हैं।

जन लोकपाल

जन लोकपाल एक संस्था होगी, जो सरकारी उच्च अधिकारियों, सांसदों तथा मन्त्रियों आदि के विरुद्ध जनता द्वारा भ्रष्टाचार सम्बन्धी शिकायत पर जाँच करेगी। राज्यों में इस प्रकार के अधिकारी को लोकायुक्त कहते हैं।

ई-कॉमर्स

ई-कॉमर्स व्यापार और वाणिज्य की ऑन लाइन लेन-देन की कुशल प्रक्रिया है। ई-कॉमर्स व्यापार आज विश्वभर में उभर रहा है।

विमुद्रीकरण

जब काला धन बढ़ जाता है और अर्थव्यवस्था के लिए खतरा बन जाता है तो डसे दर करने के लिए विमुद्रीकरण की विधि अपनाई जाती है। इसके अन्तर्गत सरकार पुरानी मुद्रा को समाप्त कर देती है और नई मुद्रा चालू कर देती है।

सार्वजनिक उपक्रम

वे उपक्रम जिनका संचालन सरकार द्वारा किया जाता है, उन्हें सार्वजनिक उपक्रम कहते है।

शेयर

किसी भी कम्पनी द्वारा पूजी जुटाने हेतु अपने स्वामित्व का एक हिस्सा बेचकर लोगों से धन प्राप्त किया जाता है और इसके बदले में दिये गये प्रमाण-पत्र को शेयर कहते है।

अवमूल्यन

यदि किसी मुद्रा का विनिमय मूल्य अन्य मुद्राओं की तुलना में जान.बूझ कम कर दिया जाता है, तो उसे मुद्रा का अवमूल्यन कहते हैं।

मानव विकाश निर्देशांक

एक देश में बुनियादी मानवीय योग्यता की औसत प्राप्ति को मानव विकाश निर्देशांक द्वारा मापा जाता है। इसका आकलन सम्बन्धित देश में जीवन प्रत्याशा (Life Expectancy)शिक्षा के स्तर तथा वास्तविक आय के आधार पर किया जाता है।

वस्तु एवं सेवा कर

वस्तु एवं सेवा कर (GST: Goods and Services Tax) भारत में १ जुलाई २०१७ से लागू एक महत्वपूर्ण अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था है जिसे सरकार व कई अर्थशास्त्रियों द्वारा इसे स्वतंत्रता के पश्चात् सबसे बड़ा आर्थिक सुधार बताया है। इससे केन्द्र एवम् विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा भिन्न भिन्न दरों पर लगाए जा रहे विभिन्न करों को हटाकर पूरे देश के लिए एक ही अप्रत्‍यक्ष कर प्रणाली लागू की जाएगी जिससे भारत को एकीकृत साझा बाजार बनाने में मदद मिलेगी। भारतीय संविधान में इस कर व्यवस्था को लागू करने के लिए संशोधन किया गया है।

Related Post