भारतीय इतिहास के प्रसिद्ध व्यक्ति – Itihas Ke Prasidh Vyakti

भारत बर्ष के इतिहास में अनेक महान विभूतियाँ हुई जिनके बारे में जानना देश के प्रत्येक नागरिक के लिए जरूरी ही नहीं अति आवश्यक है क्योंकि हम अपने आप और अपने देश पर तब ही गर्व कर सकते हैं जब हमें अपने देश और अपने देश के इतिहास के प्रमुख एवं प्रसिद्ध व्यक्तियों के बारे में जानकारी होगी। इन प्रसिद्ध व्यक्ति से संबंधित विभिन्न परीक्षाओं में प्रश्न भी पूछे जाते हैं। अतः इनके बारे में जानना छात्रों के लिए भी अति आवश्यक हैं।

Itihas Ke Prasidh Vyakti
Itihas Ke Prasidh Vyakti

भारतीय इतिहास के प्रसिद्ध व्यक्ति

व्यक्ति विवरण/जानकारी
अकबर मुगल वंश का तीसरा और सबसे यशस्वी सम्राट। वह 1556 ई. में गद्दी पर बैठा। उसने दीन-ए-इलाही धर्म चलाया।
अजातशत्रु मगध के राजा बिम्बिसार का पुत्र और उत्तराधिकारी। वह गौतम बुद्ध का समकालीन था। उसने 516 से 489 ई. पू. तक शासन किया।
अतिशा प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु और धर्म प्रचारक । उसका जन्म 981 ई. में हुआ था।
अबुलफजल अकबर के नवरत्नों में से एक । उसने ‘अकबरनामा’ की रचना की।
अहमद शाह अब्दाली अब्दाली ने 1747 ई. में नादिरशाह की मृत्यु के बाद अफगान सिंहासन पर अधिकार कर लिया। उसने 1761 ई. में पानीपत के तृतीय युद्ध में मराठों को पराजित किया।
अबुल कलाम आजाद भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के प्रमुख सेनानी, जो स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद शिक्षा मन्त्री बने।
खान अब्दुल गफ्फार खाँ इन्हें ‘सीमान्त गाँधी’ भी कहते हैं। उन्होंने खुदाई खिदमतगार संगठन बनाया।
अमीर खुसरो ‘तोता-ए-हिन्द’ उपनाम से प्रसिद्ध जिन्होंने ‘तुगलकनामा’ लिखा।
अरविन्द घोष महान् देशभक्त एवं क्रान्तिकारी, जो बाद में अध्यात्मवाद की ओर मुड़ गए।
अर्जुनदेव सिक्खों के पाँचवें गुरु। उन्होंने ‘आदिग्रन्थ’ का संकलन किया।
अल्बुकर्क पुर्तगाली अधिकार में आये भारतीय क्षेत्र का दूसरा गवर्नर (1509-1515 ई.)।
अलबरूनी सुल्तान महमूद गजनवी का समकालीन विद्वान।
अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली का सुल्तान (1296-1316 ई), जिसने बाजार सुधार किये।
अशोक (लगभग 273-232 ई. पू.) मौर्य राजवंश का तीसरा सम्राट, जिसने कलिंग युद्ध के बाद बौद्ध धर्म अपना लिया।
अहिल्याबाई इन्दौर के महाराजा मल्हार राव होल्कर की पुत्रवधू थी। 1795 ई. में उसकी मृत्यु हुई।
इकबाल सर मोहम्मद इकबाल (1876-1938 ई) आधुनिक भारतीय प्रसिद्ध मुसलमान शायर थे।
इत्सिंग एक चीनी भिक्षु और यात्री, जो 695 ई. में सुमात्रा होकर समुद्र के मार्ग से भारत आया था।
इब्नबतूता एक अफ्रीकी विद्वान, जो 1333 ई. में मोहम्मद-बिन-तुगलक के काल में भारत आया था।
उपगुप्त एक बौद्ध भिक्षु, जो अशोक का गुरु था।
एकनाथ 16वीं शताब्दी में उत्पन्न महाराष्ट्र के प्रसिद्ध सन्त और धर्म सुधारक।
ओनेसि क्राइटोस एक प्रसिद्ध ग्रीक इतिहासकार, जिसने भारत पर सिकन्दर के आक्रमण का वृत्तान्त लिखा है।
कनिष्क कुषाण वंश का सबसे प्रसिद्ध राजा। उसके शासन काल के बारे में मतभेद हैं। यह द्वितीय अशोक कहलाता है।
कबीर 14वीं-16वीं शताब्दी के प्रसिद्ध संत, जिन्होंने धार्मिक एकता का उपदेश दिया।
करिकाल अब तक ज्ञात चोल राजाओं में सबसे प्राचीन, उसका काल 100 ई. माना जाता है।
कल्हण संस्कृत के ‘राजतरंगिणी’ नामक ग्रन्थ का रचयिता, जिसमें कश्मीर के राजाओं का वर्णन है। वह 12वीं शताब्दी में हुआ।
कामदक राजशास्त्र का एक भारतीय लेखक, उसने ‘नीतिसार’ लिखा।
लार्ड कर्जन भारत का वायसराय। 1905 ई. में उसने बंगाल का विभाजन किया।
लार्ड कार्नवालिस भारत का गवर्नर जनरल। इसने बंगाल में लगान का स्थाई बन्दोबस्त किया।
कालिदास चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य की राज सभा का कवि। उसने ‘रघुवंश’, ‘शाकुन्तलम’, ‘मेघदूत’, ‘ऋतुसंहार’ आदि की रचना की।
कुतुबद्दीन ऐबक दिल्ली का पहला मुसलमान सुल्तान । उसने 1206-10 ई. तक राज्य किया।
कुमारिल भट हिन्दुओं के धर्मसूत्रों एवं पूर्व मीमांसा दर्शन के विद्वान भाष्यकार। वे दक्षिण भारत में लगभग 700 ई. में पैदा हुए।
कृष्णदेव राय विजयनगर (1509-1529 ई.) का सबसे यशस्वी राजा।
कौटिल्य चन्द्रगुप्त मौर्य (322-298 ई. पू.) का गुरु य ‘अर्थशास्त्र’ का रचयिता।
लार्ड क्लाइव भारत में अंग्रेजी राज्य के संस्थापकों में से एका
महात्मा गाँधी गाँधीजी (1869-1948 ई.) एक युग पुरुष और राष्ट्रपिता थे। उन्होंने देश के लोगों को स्वतन्त्रता आन्दोलन में शामिल किया।
गोपाल कृष्ण गोखले भारत के महान राष्ट्रवादी नेता (1866-1915 ई) और गाँधीजी के राजनीतिक गुरु।
घोषा वैदिक युग की एक प्रमुख ब्रह्मवादिनी नारी, जिसके नाम से ऋग्वेद में अनेक सूक्त मिलते हैं।
चंडीदास पश्चिम बंगाल के 14वीं सदी के प्रख्यात वैष्णव कवि।
चंदबरदाई दिल्ली के शासक पृथ्वीराज चौहान का दरबारी कवि। ‘पृथ्वीराज रासो’ व ‘चंद-रायसा’ महाकाव्यों का रचनाकार।
उधम सिंह भारत का एक प्रमुख क्रान्तिकारी जिसने 13 मार्च, 1940 को माइकेल ओ डायर की लन्दन में गोली मारकर हत्या कर दी।
चन्द्रगुप्त मौर्य मौर्य वंश का संस्थापक। उसने बड़े साम्राज्य की स्थापना की।
चक्रपाणि एक प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान, जिसने चिकित्सा शास्त्र में विशेष दक्षता प्राप्त की। उसका काल 11वीं सदी है।
चरक ‘चरक संहिता’ का लेखक एवं सविख्यात प्राचीन भारत का चिकित्सक।
चारुमति सम्राट अशोक की पुत्री, जो बाद में बौद्ध भिक्षुणी बन गई।
चाँदबीबी अकबर के शासन के समय अहमदनगर की शासक।
चार्वाक भारतीय दर्शन की भौतिकवादी विचारधारा के व्याख्याता।
चितरंजन दास बंगाल के प्रसिद्ध वकील (1870-1926 ई.) व स्वराज दल के संस्थापक।।
चैतन्य देव बंगाल में 15:-16वीं सदी के वैष्णव धर्म के संस्थापक।
जमशेद एक प्रसिद्ध ईरानी कलाकार, जिसे सम्राट अकबर का आश्रय प्राप्त था।
जीजाबाई मराठा राज्य के संस्थापक शिवाजी की माँ।
टीपू सुल्तान मैसूर के शासक हैदरअली का पुत्र और उत्तराधिकारी। यह अंग्रेजों का घोर विरोधी था और 1799 ई. में चतुर्थ आंग्ल-मैसूर युद्ध में मारा गया।
टोडरमल अकबर का वित्तमन्त्री। उसने जमीन नापने की समरूप प्रणाली (दहसाला पद्धति) सर्वप्रथम प्रचलित की।
ठाकुर अवनीन्द्र नाथ प्रख्यात कलाकार (1871-1931ई.) अवनीन्द्र नाथ ने ‘इण्डियन सोसायटी ऑफ ओरिएन्टल आर्ट्स’ की स्थापना की।
तानसेन अकबर का महान दरबारी संगीतकार था।
तुकाराम महाराष्ट्र के एक प्रसिद्ध कवि व सन्त। वे शिवाजी प्रथम के समकालीन थे।
तुलसीदास (1532-1623 ई.) तुलसीदास ने ‘रामचरितमानस’ सहित अनेक काव्य ग्रन्थों की रचना की।
दण्डी छठी शताब्दी का कवि व गद्य लेखक। उसने ‘दशकुमार चरित्र’ की रचना की।
दयानन्द सरस्वती उन्होंने (1824-83 ई.) आर्य समाज की स्थापना की। वे महान् समाज सुधारक थे। ‘सत्यार्थ प्रकाश’ उनकी ही रचना है।
दलाई लामा तिब्बत के पहले धर्मगुरु। उन्होंने भारत में शरण ली हुई है। उन्हें 1989 में शान्ति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
दुर्गावती सोलहवीं सदी में गोंडवाना की शासक।
धंग (950-999 ई.) मध्य भारत के चंदेल वंश का सबसे शक्तिशाली राजा।
नागार्जुन एक प्रसिद्ध बौद्ध विद्वान, जिसका समय दूसरी शताब्दी माना जाता है।
गुरुनानक 15वीं सदी के सिख धर्म के प्रवर्तक।
डेमिनगोस पीस एक पुर्तगाल यात्री, जो कृष्णदेव राय के समय में विजयनगर आया।
पुरुषोत्तम एक हिन्दू दर्शनवेत्ता, जिसे अकबर ने 1680 ई. में फतेहपुर सीकरी के इबादतखाने में वाद-विवाद के लिए बुलाया।
पुलकेशिन प्रथम दक्षिण में बादामी में चालुक्य वंश का प्रवर्तक । वह छठी शताब्दी के लगभग हुआ था।
पुलकेशिन द्वितीय चालुक्य वंश का सबसे प्रतापी शासक, जिसने हर्षवर्धन को पराजित किया।
पैन्तेलियोन एक भारतीय यवन राजा। (190-180 ई. पू.), जिसने चौकोर सिक्के चलवाए थे।
प्लिनी एक प्राचीन यूनानी भूगोलवेत्ता। उसने प्रथम शताब्दी ई. पू. में ‘नेचुरल हिस्ट्री’ नामक अपने ग्रन्थ में भारत का वर्णन किया।
फाह्यान एक चीनी यात्री, जो 401 से 410 ई. तक भारत में रहा।
मोहम्मद बिन कासिम अरब शासक, जिसने 712 ई. में सिन्ध पर आक्रमण किया।
भाष्कराचार्य ख्याति प्राप्त गणितज्ञ और ज्योतिषाचार्य। उन्होंने ‘सिद्धान्त शिरोमणि’ की रचना की।
सर टॉमस रो एक अंग्रेज राजदूत जो इंग्लैण्ड के सम्राट जेम्स द्वितीय का दूत बनकर 1615 ई. में भारत के तत्कालीन मुगल सम्राट जहाँगीर के दरबार में आया था।
पीटर मण्डी यूरोपीय यात्री, जो जहाँगीर के शासनकाल में भारत आया। उसने तत्कालीन भारत पर रोचक शब्दों में लिखा है।
मोहम्मद गौरी भारत में मुस्लिम राज्य और दिल्ली सल्तनत का संस्थापक।
मोहम्मद साहब इस्लाम धर्म के प्रवर्तक मोहम्मद साहब का जन्म अरब के मक्का नामक नगर में छठी शताब्दी के अन्त में हुआ।
विवेकानन्द प्रसिद्ध हिन्दू सन्यासी व उपदेशक (1863-1902 ई) उनका मूल नाम नरेन्द्रदत्त था।
विद्यासागर ईश्वरचन्द्र विद्यासागर (1820-1891 ई.) बंगाल के महान् शिक्षाविद् समाज सुधारक थे।
वेदव्यास एक प्रसिद्ध कृषि, उन्होंने ‘महाभारत’, 18 पुराणों तथा वेदान्त सूत्रों की रचना की।
आर्यभट्ट यह पाँचवीं शताब्दी का भारतीय नक्षत्रवेत्ता तथा गणितज्ञ थे। पृथ्वी व चन्द्रमा के व्यास की माप, पृथ्वी की सूर्य के चारों ओर गति का महत्त्व आदि इनके योगदान हैं। इनके नाम पर ही भारत के प्रथम भू-उपग्रह का नाम ‘आर्यभट्ट’ रखा गया।
महाराणा प्रताप यह राणा साँगा के पौत्र थे। इन्होंने हल्दीघाटी का युद्ध (1576) में अकबर के सेनापति मानसिंह के विरुद्ध लड़ा परन्तु हार गए।
पृथ्वीराज चौहान 12वीं शताब्दी का राजपूत राजा जिसका शासन अजमेर तथा दिल्ली पर था। इन्होंने तराइन के प्रथम युद्ध (1191) में मोहम्मद गोरी को पराजित किया था परन्तु तराइन के. द्वितीय युद्ध (1192) में पराजित हो गए।
नादिरशाह मिस्र का शासक जिसने 1739 ई. में भारत पर आक्रमण किया था।
कर्णवती यह राणा साँगा (मेवाड़) की हाड़ा रानी थी। राणा सांगा की मृत्यु के बाद अल्पवयस्क पत्र विक्रमादित्य को शासक बनाया तथा स्वय उसकी संरक्षिका के रूप में शासन किया। गुजरात के शासक बहादुरशाह ने जब चित्तौड़ पर आक्रमण किया तब रानी कर्णवती ने मुगल हुमायूँ के पास राखी भेजकर सहायता की प्रार्थना की।
चाणक्य इन्हें विष्णुगुप्तकौटिल्य नामों से भी जाना जाता है। मौर्य वंश के संस्थापक चन्द्रगुप्त मौर्य के गुरु तथा प्रधानमन्त्री थे। इन्हीं के निर्देशन में चन्द्रगुप्त मौर्य ने नन्दों का उन्मूलन कर मौर्य वंश की स्थापना की थी। अर्थशास्त्र’ इनका प्रसिद्ध ग्रन्थ है।

भारतीय इतिहास

  1. प्रमुख भारतीय राजवंश
  2. भारत में ब्रिटिश शासन
  3. भारत का राष्ट्रीय आन्दोलन (1857-1947)
  4. धार्मिक एवं सामाजिक आन्दोलन
  5. प्रमुख ऐतिहासिक स्थल
  6. भारतीय इतिहास के प्रसिद्ध व्यक्ति
  7. भारतीय इतिहास के प्रमुखं युद्ध
  8. राष्ट्रीय आंदोलनों की महत्वपूर्ण तिथियां
  9. विद्रोह के प्रमुख केंद्रों का नेतृत्व
  10. राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन सम्बन्धी प्रमुख वचन एवं नारे
  11. राष्ट्रीय आंदोलन में बनी संस्थाए
  12. समाचार पत्र तथा पत्रिकाएँ व उनके संस्थापक
  13. भारत के प्रमुख नेता तथा उनके उपनाम

Related Post