Soni in Pedagogy
What do you understand by mass communication? Write down the merits of collective communication. सामूहिक सम्प्रेषण से आप क्या समझते हैं ? सामूहिक सम्प्रेषण के गुण-दोष लिखिये, saamoohik sampreshan se aap kya samajhate hain ? saamoohik sampreshan ke gun-dosh likhiye.

1 Answer

+4 votes
Aritra

सामूहिक सम्प्रेषण का अर्थ कक्षा शिक्षण है। विद्यालय में एक सी मानसिक योग्यता वाले छात्रों के अनेक उपसमूह बना लिये जाते हैं। साधारणतया इनको कक्षा कहते हैं। ये कक्षाएँ सामूहिक इकाइयाँ होती हैं। शिक्षक इन कक्षाओं में जाते हैं और सभी छात्रों को एक साथ शिक्षा देते हैं।

इस प्रकार सामूहिक शिक्षण में शिक्षक सामूहिक शिक्षण द्वारा ज्ञान प्रदान करते हैं। इस विधि में एक कक्षा के सभी छात्रों के लिये सामूहिक शिक्षण विधि का प्रयोग किया जाता है।

सामूहिक सम्प्रेषण के गुण

  1. यह विधि सरल तथा सस्ती है। इसी कारण यह विधि व्यावहारिक है।
  2. यह विधि छात्रों को व्यवहार कुशल बनाती है। बालक अनेक बालकों के सम्पर्क में आने के कारण अच्छे गुण ग्रहण करते हैं।
  3. इस विधि से शिक्षा देने में बालकों की तर्क शक्ति, कल्पना और चिन्तन शक्ति का विकास होता है।
  4. यह विधि छात्रों में नेतृत्व के गुणों का विकास करती है। इसमें बालकों के लिये पाठ्यक्रम सहगामी क्रियाओं का आयोजन किया जाता है।
  5. इस विधि से शिक्षण देने से बालकों में प्रतियोगिता की भावना का उदय होता है।

सामूहिक सम्प्रेषण के दोष

  1. इस विधि को मनोवैज्ञानिक नहीं कहा जा सकता। इसमें बालकों की रुचियों और आवश्यकताओं की अवहेलना की जाती है।
  2. यह विधि कक्षा केन्द्रित है शिक्षा बाल केन्द्रित होनी चाहिये।
  3. यह विधि समय सारणी के अनुसार शिक्षक और छात्रों को एक संकुचित क्षेत्र में बाँध देती है। शिक्षक पाठ्यक्रम में निर्धारित विषयवस्तु में ही जूझता रहता है। फलस्वरूप बालक का विकास रूक जाता है।
  4. इस विधि में शिक्षक और छात्रों के मध्य सम्पर्क नहीं बन पाता। एक शिक्षक अनेक कक्षाओं को पढ़ाता है। इस प्रकार बालकों से व्यक्तिगत सम्पर्क नहीं बन पाता।
  5. इस विधि से शिक्षक बालकों की व्यक्तिगत कठिनाइयों को दूर नहीं कर पाता। अत: बालक का विकास रूक जाता है।

Related questions

Category

Follow Us

Stay updated via social channels

Twitter Facebook Instagram Pinterest LinkedIn
...