Priya Sharma in Pedagogy
Shiksha aur shikshan ke madhy vibhed ko spasht keejiye, शिक्षा और शिक्षण के मध्य विभेद को स्पष्ट कीजिये, Explain the distinction between education and teaching.

1 Answer

+1 vote
Aswathi

शिक्षा और शिक्षण में अन्तर निम्नलिखित प्रकार स्पष्ट किया जा सकता है-

Sr. शिक्षा (Education) शिक्षण (Teaching)
1. शिक्षा विकास का क्रम है। शिक्षण बालक के विकास में सहायता करता है।
2. शिक्षा निरन्तर चलने वाली प्रक्रिया है। शिक्षण कला है। इसका मानव के सोद्देश्य कार्यों से घनिष्ठ सम्बन्ध होता है।
3. शिक्षा गतिशील रहती है। शिक्षण सदैव परिवर्तित होता रहता है।
4. शिक्षा एक द्विमुखी प्रक्रिया है। शिक्षा की प्रक्रिया में बालक निष्क्रिय नहीं रहता वरन् शिक्षा तथा छात्र दोनों सक्रिय रहते हैं। शिक्षण एक त्रिमुखी प्रक्रिया है। इसके तीन बिन्दु हैं - (1) शिक्षक, (2) छात्र या बालक और (3) विषय
5. शिक्षा सम्बन्ध स्थापित नहीं करती। शिक्षण का अर्थ है-शिक्षक,बालक और विषय में सम्बन्ध स्थापित करना।
6. शिक्षा एक निरन्तर चलने वाली प्रक्रिया है। शिक्षण सिखाना है। शिक्षक का कार्य शिक्षण के द्वारा बालक को सिखाना है।
7. शिक्षा बालक के सर्वांगीण विकास में सहायता करती है। शिक्षण सूचना देता है। शिक्षण के समय शिक्षक अपने बालकों को नयी सूचनाएँ देता है।
8. एडीसन के अनुसार, "शिक्षा वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा मनुष्य में अपने से निहित उन शक्तियों तथा गुणों का दिग्दर्शन होता है जिनका होना शिक्षा के बिना असम्भव है।" शिक्षण सीखने का संगठन है। मरसेल का कथन है, "शिक्षण को सीखने के संगठन के रूप में सर्वोत्तम प्रकार से परिभाषित
किया जा सकता है।
"
9. शिक्षा के द्वारा बालक का सामाजिक विकास होता है। शिक्षण कला बालक का व्यक्तिगत विकास करती है।
10. शिक्षा एक सामाजिक क्रिया है। शिक्षण कार्य सिखाना मात्र है।
11. मॉरीसन के अनुसार, "शिक्षा सीखने की क्रिया व्यक्ति का विकास है तो उसके शारीरिक विकास से भिन्न है।" शिक्षण कला का सम्बन्ध मानसिक तथा शारीरिक विकास दोनों से हो सकता है।

Related questions

Category

Follow Us

Stay updated via social channels

Twitter Facebook Instagram Pinterest LinkedIn
...