Pratham Singh in हिन्दी व्याकरण
edited
भ्रांतिमान अलंकार और संदेह अलंकार में क्या अंतर है? मानवीकरण अलंकार क्या है? देख उसको ही हुआ शुक मौन है सोचता है अन्य शुक यह कौन है?

1 Answer

+1 vote
Deva yadav
edited

परिभाषा

जब उपमेय में उपमान के होने का भ्रम हो जाये वहाँ पर भ्रांतिमान अलंकार होता है अथार्त जहाँ उपमान और उपमेय दोनों को एक साथ देखने पर उपमान का निश्चयात्मक भ्रम हो जाये मतलब जहाँ एक वस्तु को देखने पर दूसरी वस्तु का भ्रम हो जाए वहाँ भ्रांतिमान अलंकार होता है। यह अलंकार उभयालंकार का भी अंग माना जाता है।

उदाहरण

पायें महावर देन को नाईन बैठी आय ।
फिरि-फिरि जानि महावरी, एडी भीड़त जाये।।

देख उसको ही हुआ शुक मौन है सोचता है अन्य शुक यह कौन है?

नाक का मोती अधर की कान्ति से, बीज दाड़िम का समझकर भ्रान्ति से। देखकर सहसा हुआ शुक मौन है। सोचता है अन्य शुक यह कौन है? उपरोक्त पंक्तियों में नाक में तोते का और दन्त पंक्ति में अनार के दाने का भ्रम हुआ है, इसीलिए यहाँ भ्रान्तिमान अलंकार है।

Related questions

...