1 Answer

0 votes
Deva yadav

परिभाषा 

यह भी अर्द्धसम मात्रिक छन्द है। यह दोहा का विलोम है, इसके प्रथम व तृतीय चरण में ।-। और द्वितीय व चतुर्थ चरण में 13-13 मात्राएँ होती हैं;

उदाहरण 

“सुनि केवट के बैन, प्रेम लपेटे अटपटे।
बिहँसे करुना ऐन, चितइ जानकी लखन तन।।”

।। ऽ।। ऽ ऽ। ऽ। ।ऽऽ ।।।ऽ = 24
मात्राएँ

Related questions

...