Soni in Pedagogy
Explain the process of communication. सम्प्रेषण की प्रक्रिया को समझाइये, sampreshan kee prakriya ko samajhaiye.

1 Answer

+1 vote
Kalpana

सम्प्रेषण शिक्षा की 'रीढ़ की हड्डी' है। बिना सम्प्रेषण के अधिगम और शिक्षण नहीं हो सकता है। 'सम्प्रेषण' दो शब्दों से मिलकर बना है- सम + प्रेषण, अर्थात् समान रूप से भेजा गया। सम्प्रेषण को अंग्रेजी में कम्यूनीकेशन (Communication) कहते हैं। कम्यूनीकेशन शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के 'कम्यूनिस' (Communis) शब्द से मानी जाती है, जिसका अर्थ होता है- सामान्य बनाना (To make common)। अतः सम्प्रेषण का अर्थ है परस्पर सूचनाओं तथा विचारों का आदान-प्रदान करना।

सम्प्रेषण की अवधारणा (Concept of Communication)

मानव एक सामाजिक प्राणी है वह समाज में रहता है। समाज में रहकर वह विचारों का आदान-प्रदान करता है। प्रत्येक मनुष्य के अपने विचार (Ideas), सम्प्रत्यय (Concepts), भावनाएँ (Feelings) एवं सिद्धान्त (Principles) आदि होते हैं जिनका वह दूसरे व्यक्तियों के साथ आदान-प्रदान या विनिमय (Exchange) करता है। यह परस्पर विचारों का आदान-प्रदान ही संचार अथवा सम्प्रेषण कहलाता है। संचार एक ऐसी प्रक्रिया (Process) है जो दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच घटित होती है।

प्रत्येक व्यक्ति के अपने कुछ विचार सम्प्रत्यय भावनाएँ एवं सिद्धान्त होते हैं, जिन्हें वह समाज में रहकर अन्य व्यक्तियों के साथ विनिमय करता है क्योंकि यह मानव का स्वभाव है कि वह दूसरों के विचार को जानना चाहता है और अपने विचार प्रकट करना चाहता है। इसके लिये वह अनेक प्रकार के माध्यमों का प्रयोग करता है; जैसे-संकेत, भाषा, चित्र एवं प्रदर्शन आदि।

मुख्य रूप से विचारों के आदान-प्रदान की प्रक्रिया ही सम्प्रेषण कहलाती है। यह विचारों के आदान-प्रदान की प्रक्रिया नयी नहीं है, बल्कि प्राचीन काल से ही इसकी परम्परा देखने को मिलती है। आदि मानव अपने विचारों को संकेतों के माध्यम से प्रकट करता था क्योंकि उसके पास भाषायी शक्ति का अभाव था। जैसे-जैसे मानव सभ्यता का विकास भाषा संस्कार एवं विद्वानों के आधार पर हुआ तत्पश्चात् सम्प्रेषण के माध्यम भी विकसित होने लगे।

वर्तमान समय में सूचना एवं तकनीकी के क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास के कारण सम्प्रेषण की प्रणाली ही परिवर्तित हो गयी है। आज प्रत्येक व्यक्ति अपनी भावनाओं एवं सैद्धान्तिक विचारों को बिना किसी विलम्ब के आसानी से दूसरे व्यक्ति को प्रेषित कर सकता है।

विश्व में हुई संचार क्रान्ति ने सम्प्रेषण के महत्त्व एवं आवश्यकता में भी वृद्धि की है। सम्प्रेषण की अवधारणा केवल मानव समाज में ही नहीं बल्कि समस्त प्राणियों में समान रूप से पायी जाती है। केवल माध्यम अलग-अलग होते हैं; जैसे-एक व्यक्ति अपनी भावनाओं को विचारों के माध्यम से स्पष्ट करता है वहीं एक पक्षी उसको संकेत एवं अपनी चहचहाने की भाषा में प्रस्तुत करता है। इस प्रकार सम्प्रेषण समस्त व्यक्तियों एवं प्राणियों द्वारा सम्पन्न होता है।

सम्प्रेषण का अर्थ (Meaning of Communication)

सम्प्रेषण शिक्षा की 'रीढ़ की हड्डी' है। बिना सम्प्रेषण के अधिगम और शिक्षण नहीं हो सकता है। 'सम्प्रेषण' दो शब्दों से मिलकर बना है- सम + प्रेषण, अर्थात् समान रूप से भेजा गया। सम्प्रेषण को अंग्रेजी में कम्यूनीकेशन (Communication) कहते हैं। कम्यूनीकेशन शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के 'कम्यूनिस' (Communis) शब्द से मानी जाती है, जिसका अर्थ होता है- सामान्य बनाना (To make common)। अतः सम्प्रेषण का अर्थ है परस्पर सूचनाओं तथा विचारों का आदान-प्रदान करना।

सम्प्रेषण का संकुचित अर्थ (Narrow meaning of communication)

सम्प्रेषण के संकुचित अर्थ में दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच विचारों, सन्देशों एवं सूचनाओं का आदान-प्रदान करना है, चाहे व्यक्ति इन सूचनाओं को समझे या नहीं तथा विश्वास करे या नहीं। आज वर्तमान समय में इस अर्थ को कोई स्वीकार नहीं करता।

सम्प्रेषण का व्यापक अर्थ (Extensive meaning of communication)

सम्प्रेषण के व्यापक अर्थ में दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच विचारों,सन्देशों, सूचनाओं तथा तथ्यों को समझा जा सके तथा विश्वासों को भी समझा जा सके। सम्प्रेषण को इस प्रकार भी समझाया जा सकता है कि शिक्षक अपने प्रधानाचार्य से अथवा छात्रों से कुछ कहते हैं या छात्र उनको कुछ बताते हैं या प्रधानाचार्य बुलाकर उनको कुछ आदेश देते हैं तथा प्रशंसा या आलोचना करते हैं।

इसका तात्पर्य है कि सम्प्रेषण की प्रक्रिया चल रही है। छात्र आपस में एक-दूसरे का हाथ पकड़कर कानों में फुसफुसाते हैं तो यह भी सम्प्रेषण की प्रक्रिया है।

इस प्रकार "सम्प्रेषण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें व्यक्ति अपने ज्ञान, हाव-भाव, मुख मुद्रा तथा विचारों आदि का परस्पर आदान-प्रदान करते हैं तथा इस प्रकार से प्राप्त विचारों अथवा सन्देशों को वे समान तथा सही अर्थों में समझने और प्रेषण करने में उपयोग करते हैं।"

Read More: https://www.mycoaching.in/2021/08/sampreshan.html

Related questions

Category

Follow Us

Stay updated via social channels

Twitter Instagram LinkedIn Instagram
...