1 Answer

0 votes
Deva yadav
edited

परिभाषा

काव्य की शोभा बढ़ानेवाले तत्वों का अलंकार कहते है। अलंकार के मुख्य दो भेद है- शब्दालंकार और अर्थालंकार। जहाँ शब्दों में चमत्कार आ जाता है वहाँ शब्दालंकार तथा जहां अर्थ के कारण रमणीयता आ जाती है उसे अर्थालंकार कहते है।

शब्दालंकार तीन प्रकार के होतें है

  1. अनुप्रास
  2. यमक
  3. श्लेष 

अर्थालंकार नौ प्रकार के होते है

  1. उपमा
  2. रूपक
  3. अनन्वय
  4. प्रतीप
  5. संदेह
  6. भ्रान्तिमान
  7. उत्प्रेक्षा
  8. दृष्टान्त
  9. अतिश्योक्ति

Related questions

...