Rishwa in Science
recategorized
साबुन कपड़े धोने एवं नहाते समय शरीर की सफाई में प्रयुक्त होता है। ऐतिहासिक रूप से यह ठोस या द्रव के रूप में उपलब्ध है।

1 Answer

0 votes
Rishwa

साबुन (soap) : दीर्घ श्रृंखला युक्त वसीय अम्लों के सोडियम या पोटेशियम लवण को साबुन कहते है।

नोट – स्टीएरिक अम्ल , ओलिक अम्ल , यामिटिक अम्ल के सोडियम या पौटेशियम लवण साबुन है।

जब तेलीय वसा की क्रिया NaOH अथवा KOH से की जाती है तो साबुन तथा ग्लिसरोल बनते है इसमें नमक डालकर साबुन अवक्षेपित कर लेते है इसे साबुनीकरण क्रिया कहते है।

साबुन के प्रकार :

  1. प्रसाधन साबुन – ये उच्च कोटि के तेल व KOH की क्रिया से बनते है।
  2. पारदर्शी साबुन – साबुन को एल्कोहल में घोलकर बनते है।
  3. औषध साबुन – इसमें पुतिरोधी पदार्थ मिला दिए जाते है।
  4. साबुन में तैरने वाले साबुन – साबुन बनाते समय इसमें वायु प्रवाहित करते है।

Related questions

Category

Follow Us

Stay updated via social channels

Twitter Instagram LinkedIn Instagram
...