Pankaj Gond in इतिहास
इतिहास क्या है इतिहास के प्रकार इतिहास का महत्व भारत का प्राचीन इतिहास, इतिहास कितने प्रकार के होते है

1 Answer

0 votes
Pranjul Awasthi

'इतिहास' शब्द की व्युत्पति संस्कर्त के 3 शब्दो से (इति+ह+आस)से हुई है! 'इति' का अर्थ है 'जैसा हुआ वैसा ही,'ह' का अर्थ है 'सचमुच' तथा आस का अर्थ है 'निरन्तर रहना या बोध होना'!

वास्तव मे परम्परा से प्राप्त उपाख्यान समूह ही इतिहास है! History शब्द का प्रयोग हेरोडोटस ने अपनी पहली पुस्तक 'हिस्टोरिका' (Historical) मे किया था! इसीलिए हेरोडोटस को 'इतिहास का जनक' माना जाता है रेनियर ने इसे एक कहानी कहा है!

भारत में मानवीय कार्यकलाप के जो प्राचीनतम चिह्न अब तक मिले हैं, वे 4,00,000 ई. पू. और 2,00,000 ई. पू. के बीच दूसरे और तीसरे हिम-युगों के संधिकाल के हैं और वे इस बात के साक्ष्य प्रस्तुत करते हैं कि उस समय पत्थर के उपकरण काम में लाए जाते थे।

जीवित व्यक्ति के अपरिवर्तित जैविक गुणसूत्रों के प्रमाणों के आधार पर भारत में मानव का सबसे पहला प्रमाण केरल से मिला है जो सत्तर हज़ार साल पुराना होने की संभावना है। इस व्यक्ति के गुणसूत्र अफ़्रीक़ा के प्राचीन मानव के जैविक गुणसूत्रों (जीन्स) से पूरी तरह मिलते हैं।

इसके पश्चात् एक लम्बे अरसे तक विकास मन्द गति से होता रहा, जिसमें अन्तिम समय में जाकर तीव्रता आई और उसकी परिणति 2300 ई. पू. के लगभग सिन्धु घाटी की आलीशान सभ्यता (अथवा नवीनतम नामकरण के अनुसार हड़प्पा संस्कृति) के रूप में हुई।

हड़प्पा की पूर्ववर्ती संस्कृतियाँ हैं: बलूचिस्तानी पहाड़ियों के गाँवों की कुल्ली संस्कृति और राजस्थान तथा पंजाब की नदियों के किनारे बसे कुछ ग्राम-समुदायों की संस्कृति। यह काल वह है जब अफ़्रीक़ा से आदि मानव ने विश्व के अनेक हिस्सों में बसना प्रारम्भ किया जो पचास से सत्तर हज़ार साल पहले का माना जाता है।

Related questions

Follow Us

Stay updated via social channels

Twitter Instagram Pinterest LinkedIn Instagram
...